पांचवें इंटरनेशनल साइंस लिटरेचर फेस्टिवल में हुआ विज्ञान कविसम्मेलन
November 12, 2019 • Datla Express

(साप्ताहिक साहित्यिक हलचल) 

 

कविता पाठ करते हुए पंडित सुरेश नीरव

 

डाटला एक्सप्रेस संवाददाता 

नई दिल्ली:  भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के संयुक्त तत्वावधान में 05 नवंबर से 07 नवंबर 2019 तक पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता  के विश्व बांग्ला कन्वेंशन सेंटर में तीन दिवसीय पांचवें इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल-2019 का आयोजन किया गया। बांग्ला विश्व कन्वेंशन सेंटर के विशाल सभागार में आयोजित इस महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय समारोह का उद्घाटन माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने किया। श्री मोदी ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि- विज्ञान जीवन को किस प्रकार  सुगम बनाए और नवाचार कैसे विकसित हो वैज्ञानिकों को इस विषय पर गंभीरता से सोचना चाहिए। केन्द्रीय स्वास्थ्य, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी,परिवार कल्याण तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री भारत सरकार डॉक्टर हर्ष वर्धन ने भी इस अवसर पर सम्मेलन को संबोधित किया। विज्ञानिका इंटरनेशनल साइंस लिटरेचर फेस्टिवल के अंतर्गत विज्ञान के विभिन्न विषयों पर सेमीनार, संगोष्ठी एवं पुस्तक प्रदर्शनी लगाई गई।

(गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुए नए कीर्तिमान) 

संचालन करते हुए आमोद कंठ और शुभदा

प्रधानमंत्री जी का उद्घाटन वक्तव्य

अंतरराष्ट्रीय सांस्कृतिक संबंध परिषद,भारत सरकार (ICCR) के अध्यक्ष संसद सदस्य: विनय सहस्रबुद्धे (बायें) के साथ कवि पंडित सुरेश नीरव

(बायें से दायें) अंतरराष्ट्रीय सांस्कृतिक संबंध परिषद,भारत सरकार (ICCR) के अध्यक्ष संसद सदस्य: विनय सहस्रबुद्धे, डॉक्टर पटेरिया, पंडित सुरेश नीरव और प्रोफेसर बलदेव भाई ( पूर्व अध्यक्ष,नेशनल बुक ट्रस्ट)

इस सम्मेलन में अनेक देशों के राजनयिकों और विदेश मंत्रियों ने कहा शिरकत की। यह सम्मेलन इस मायने में अद्भुत रहा कि इस महोत्सव ने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में कई नए प्रतिमान दर्ज कराए। अठ्ठाइस हजार पंजीकृत प्रतिभागियों के इस महापर्व साइंस लिटरेचर फेस्टिवल में पहली बार विज्ञान कवि सम्मेलन का भी आयोजन किया गया। देशभर से आए प्रतिभागियों और प्रतिनिधियों के व्यापक समुदाय के मध्य आयोजित इस विज्ञान कविसम्मेलन में पंडित सुरेश नीरव, लक्ष्मी शंकर वाजपेयी, पंकज प्रसून, नीलोत्पल मृणाल, यशपाल सिंह, डॉक्टर सुनीता, मधु मिश्रा, शुभ्रता मिश्रा, चंद्रकांता, डॉक्टर सुभाष गुरुदेव ने अपनीे वैज्ञानिक कविताओं का पाठ किया और अपनी इन रचनाओं के माध्यम से देश में विज्ञान को घर-घर तक पहुँचाने का एक सार्थक प्रयास किया।प्रतिष्ठित राजनेता कैलाश विजयवर्गीय ने इस अवसर पर कविसम्मेलन में आए कवियों को शॉल एवं प्रतीक चिह्न देकर सम्मानित भी किया। कविसम्मेलन का सफल एवं सार्थक युगल संचालन  विज्ञान प्रसार के मानवर्धन कंठ तथा शुभदा ने संयुक्त रूप से किया। उल्लेखनीय है कि यह पाँचवाँ इंटरनेशनल साइंस एंड लिटरेचर फेस्टिवल अब तक के पूर्व में आयोजित साइंस फेस्टिवलों में सबसे बड़ा फेस्टिवल रहा। जो कि अपनी उपलब्धियों के लिए बहुत समय तक याद किया जाएगा।

विदेशी अतिथि के साथ चर्चित कवयित्री मधु मिश्रा एवं पंडित सुरेश नीरव

कवि पंडित सुरेश नीरव का सम्मान करते हुए राजनेता कैलाश विजयवर्गीय।

कविता पाठ करते हुए डॉक्टर लक्ष्मी शंकर वाजपेई

विश्व बांग्ला कन्वेंशन सेंटर कोलकाता में उपस्थित श्रोताओं का विराट समुदाय

 


प्रस्तुति: डाटला एक्सप्रेस/प्रत्येक बुधवार/ग़ाज़ियाबाद/13 से 19 नवंबर 2019/व्हाट्सप 9540276160/मेल: rajeshwar.azm@gmail.com एवं datlaexpress@gmail.com/संपादक: राजेश्वर राय 'दयानिधि'