ALL CRIME NEWS INTERNATIONAL NEWS CURRUPTION CORONA POSITIVE NEWS SPORTS
नगर निगम गाज़ियाबाद के अवर अभियंता संजय गंगवार के संरक्षण से वार्ड संख्या 05 में ठेकेदार सोनू द्वारा पुरानी नालियों को ही रिपेयर करके किया जा रहा है निर्माण कार्य
November 8, 2020 • डाटला एक्सप्रेस

गाजियाबाद नगर निगम के मोहन नगर जोन में तैनात अवर अभियंता (जेई) संजय गंगवार के संरक्षण में ठेकेदार सोनू जनता के हित के पैसों को हड़पने में लगा हुआ है। । आपको बताते चलें की नगर निगम के द्वारा वार्ड नंबर 5 गगन विहार गली नंबर 16 ए-ब्लॉक शर्मा डेयरी वाली गली में नाली व रास्ते का निर्माण कार्य चल रहा है जिसका लाखों का ठेका ठेकेदार सोनू व मोनू को दिया गया है जिसमें ठेकेदार जेई संजय गंगवार की छत्रछाया में अपने भ्रष्टाचार और मनमानी का सबूत पेश करते हुए पुरानी नालियों को ही रिपेयर करके रास्ता व नाली बनाने का काम कर रहा है जबकि रास्ता व नाली बनाने के ठेके पुरानी जर्जर हो चुकी नालियों और रास्ते को पूरी तरह से तोड़कर नई सामग्री लगाकर तैयार करने का होता है परंतु सरकार की छवि को धूमिल करते हुए यह लोग अपनी मोटी कमाई के चक्कर में आम जनता के हित के पैसे को हड़पने में लगे हुए हैं जिसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। वही कुछ लोगों ने बताया कि हमने इसकी शिकायत क्षेत्रीय पार्षद और ठेकेदार से की तो वह कहने लगे की पुलिस को बुला कर तुम्हारी शिकायत करके अभी थाने में बंद करवा देते हैं तब देखना सब कुछ ठीक हो जाएगा।

 

यह काफी चिंताजनक बात है कि जब कोई आम नागरिक समाज में फैल रहे भ्रष्टाचार और और समाज के हित के लिए अपनी आवाज़ बुलंद करता है तो किस प्रकार इस तरह के भ्रष्‍ट सत्ताधारी नेता व ठेकेदार आम लोगों की आवाज को कैसे अपने रसूख और ताक़त का गलत ईस्तेमाल कर जो उन्हें इन्हीं आम लोगों से ही मिली होती है के दम पर बंद करा देते हैं।यहां यह भी एक सोचनीय विषय है कि सत्ताधारी पार्टी का एक पार्षद होने के बावजूद उन्हें जनता की नज़र में अपनी पार्टी की छवि खराब होने का भी भय नहीं रहता बस रहता है तो केवल और केवल भ्रष्टाचार का सहारा लेते हुए अपनी जेब को भरने का मंसूबा। 

 

उक्त पूरे मामले की संक्षिप्त शिकायत माननीय मुख्यमंत्री के साथ-साथ जिले के उच्च अधिकारियों से पत्राचार और ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से की जा रही है जिसमें देखना दिलचस्प होगा कि शासन या प्रशासन द्वारा उक्त ठेकेदार और अवर अभियंता के खिलाफ क्या विभागीय कार्यवाही की जाती है।