ALL CRIME NEWS INTERNATIONAL NEWS CURRUPTION CORONA POSITIVE NEWS SPORTS
जनता त्रस्त जेई मस्त 
November 21, 2020 • डाटला एक्सप्रेस

साहिबाबाद:पर्यावरण विभाग प्रदूषण फैलाने वाली फैक्ट्रियों व कारखानों को बंद कराने के नए-नए दावे रोज पेश करता रहता है। लेकिन जमीनी सच्चाई इसके बिल्कुल इतर है। विभाग के कुछ भ्रष्‍ट कर्मचारी-अधिकारी शाशन-प्रशासन द्वारा दिए गए आदेशों-उपदेशों को ताक पर रख कर आज भी अपनी नाक के नीचे प्रदूषण फैलाने वाली सैकड़ों फैक्ट्रियों को बे-धड़क चलने देते हैं जिसे साहिबाबाद क्षेत्र के कृष्णा विहार कुटी पर आसानी से जा सकता हैं जिसमें अवर अभियंता रंजीत की शह पर प्रदूषण फैलाने वाली जिंस रंगाई व स्प्रे करने की फैक्ट्री सालों से बे रोक-टोक चलाई जा रही हैं।

आपको बता दें की इस फैक्ट्री को शादाब नामक व्यक्ति चला रहा है जिसकी शिकायत क्षेत्रीय लोगों द्वारा कई बार विभाग को की गई परंतु प्रदूषण विभाग के अधिकारियों ने कभी भी कोई उचित विभागीय कार्यवाही इस संस्थान के विरुद्ध नहीं की जिसके परिणामस्वरूप फैक्ट्री संचालक शादाब का मनोबल सातवे आसमान पर है और वह खुलेआम लोगों को धमकी देकर कहता है कि जिसमें दम हो वह मेरा काम बंद करा कर दिखा दे।

उक्त फैक्ट्री रामा विहार कुटी बिजली घर के बराबर से जाने वाली गली नंबर 3-4 मे स्थित है जिसमें जींस रंगाई व स्प्रे का काम किया जाता है जो नियमों के विरुद्ध है। इस फैक्ट्री से निकलने वाले कैमिकल जो भारी मात्रा में रोजाना भू गर्भ जल में जाकर मिल जाता है कि वजह से आसपास में रह रहे लोगों का जीना दुश्वार हो गया है। 

 

क्षेत्रीय लोगों का कहना है की हमारे लाख मना करने के बावजूद भी यह लोग यहां पर इन फैक्ट्रियों को चला रहे हैं हमने इनकी शिकायत कई बार प्रदूषण विभाग व बिजली विभाग में की परंतु किसी भी विभाग के अधिकारी ने इनके ऊपर कोई कार्यवाही नहीं कि हैं जिसकी वजह से हमें आए दिन जल संबंधी अनेकों परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है जिसमें पानी का आस-पास बने घरों में कैमिकल युक्त आना आम बात है जिसकी वज़ह से हमे अनेकों बीमारियों का सामना करना पड़ता है। दिल्ली से सटे होने के कारण यहा पहले ही काफी भारी मात्रा में वायु प्रदूषण है और दूसरी ओर यह जल प्रदूषण जिन्होंने मिलकर हमारे जीवन को संकट में डाल रखा है। विभाग में कोई हमारी नहीं सुनता जिससे एहसास होता है कि हम आम लोग एक कठपुतली के समान हैं जिनका कोई महत्व नहीं क्योंकि इन फैक्ट्रियों को संरक्षण देने वाले विभाग के क्षेत्रीय अधिकारियों के अलावा कुछ दबंग किस्म केे लोग भी हैं जो हमें डरा धमका कर चुप करा देते हैं।

 

इस समस्या की गंभीरता को देखते हुए हमारे समाचार पत्र द्वारा अब मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश को एक शिकायती पत्र द्वारा पूरे मामले से अवगत कराते हुए संबंधित मामले में सभी दोषियों के विरुद्ध उचित कार्यवाही करने की मांग की जाएगी।