एक महिला ने विद्युत विभाग के अधिकारियों पर जबरन बाथरूम का दरवाजा खोल कर बाहर खींचने का लगाया आरोप
December 15, 2019 • Datla Express

डाटला एक्सप्रेस
व्हाट्सप: 9540276160 

गाजियाबाद-- (14/12/19)  लोनी क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ट्रोनिका सिटी थाने के अगरोला गांव की एक महिला ने विद्युत विभाग की टीम पर जबरन घर में घुसकर नहाते समय उसके साथ अभद्रता करने का आरोप लगाया है। महिला का कहना है कि विद्युत कर्मियों ने उसके बाथरूम का दरवाजा अचानक खोल दिया और उस का हाथ पकड़ कर हाथ खींचने का प्रयास करने लगे, महिला ने शोर मचाया तो ग्रामीण एकत्र हो गए जिससे उसकी इज्जत बच पाई। उसके बाद ग्रामीणों ने विद्युत कर्मियों का विरोध किया तो विद्युत कर्मियों ने ग्रामीणों को झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी दी और थाना ट्रोनिका सिटी में जाकर झूठा मुकदमा लिखवा दिया, वहीं दूसरी तरफ गांव की दर्जनों महिलाओं ने शनिवार देर शाम ट्रोनिका सिटी थाने पहुंचकर विद्युत विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए तहरीर दी है। महिलाओं का कहना है कि अगर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई नहीं की तो वह थाने के सामने आत्मदाह कर लेंगी। 

आपको बता दें कि वैसे तो गाजियाबाद जिले में बिजली विभाग के अधिकारी हमेशा कुचर्चा में रहते ही हैं, कभी बिजली चोरी करवाने के मामले में, तो कभी बिना पैसा लिए कनेक्शन ना देने के मामले में बार-बार लोगों को परेशान करते ही रहते हैं। इसी क्रम में लोनी क्षेत्र के थाना ट्रॉनिका सिटी क्षेत्र में दिनांक 14/12/2019 को विद्युत विभाग बकायेदारों पर कार्यवाही करने गया था, आरोप है कि ग्रामीणों ने अवर अभियंता, उप-खण्ड अधिकारी व अधिशाषी अभियन्ता के साथ अगरोला गांव में मारपीट की जिससे एसडीओ इंद्र भानु सिंह के सर में मामूली सी चोट आ गई, उसके बाद बिजली विभाग के  अधिकारी व् कर्मचारी हमेशा की तरह झुंड बनाकर थाने पहुंच गए मुकद्दमा लिखवाने और पुलिस भी ने तत्काल प्रभाव से बिना किसी जाँच-पड़ताल के उनके दबाव में ग्रामीणों का पक्ष जाने 147, 148, 323, 186, 353, 34, 332, 307, 504, 506 की गंभीर धाराओं में दस लोगों के बिरुद्ध आपराधिक मुकदमा पंजीकृत कर त्वरित न्याय की मिसाल पेश करते हुए एक नामजद आरोपी को तत्काल गिरफ्तार भी कर लिया। अभी 19 लोग और बकाया हैं गिरफ्तारी को, आश्चर्य होता है क्या ये वही पुलिस है जो डकैती, बलात्कार और क़त्ल के मामलों को भी दर्ज करने में कोताही बरतती है उसने बेबस ग्रामीणों पर तत्काल बिना सोचे समझे इतनी धाराओं में मुकदमा दर्ज कर दिया। 

वहीं महिलाओं का कहना है कि उक्त पीड़ित महिला की तहरीर पर अभी तक मुकदमा पंजीकृत नहीं किया गया है, वैसे तो महिलाओं की सुरक्षा में योगी सरकार आए दिन नए-नए तरीके से सुरक्षा देने की बात कह रही है लेकिन दूसरी तरफ महिलाओं के साथ रोजाना अनेकों अनहोनी हो रही हैं। अब देखने वाली बात यह होगी पुलिस कब तक सच्चाई का पता लगा पाती है और दोषी बिजली विभाग के लोगों पर भी मुकदमा दर्ज करती है।