ALL CRIME NEWS INTERNATIONAL NEWS CURRUPTION CORONA POSITIVE NEWS SPORTS
अवर अभियंता आशीष रतन की मिलीभगत से दिनेश नामक व्यक्ति चला रहा है जींस रंगाई की फैक्ट्री
September 1, 2020 • डाटला एक्सप्रेस

डाटला एक्सप्रेस संवाददाता 

 

गाज़ियाबाद के साहिबाबाद क्षेत्र अंतर्गत डिफेंस कॉलोनी में प्रदूषण फैलाने वाली दर्जनों जींस रंगाई की फैक्ट्रियां क्षेत्र के कुछ दबंग व सरकश किस्म के लोगों के संरक्षण में धड़ल्ले से चलाई जा रहीं हैं जिसकी पुर्णतः जानकारी विद्युत व प्रदूषण विभाग के क्षेत्रीय अधिकारियों को भी है। 

 

आपको बता दें की इन फैक्ट्रियों को मेन 60 फुटा रोड डिफेंस कॉलोनी व कॉलोनी के अंदर रिहायशी इलाके में चलाई जा रही हैं जिसे आप तस्वीर में भी साफ तौर पर देख सकते हैं तस्वीर में दिख रही फैक्ट्री को दिनेश नामक व्यक्ति चला रहा है जिसमें जींस रंगाई और स्प्रे का काम किया जाता है जिस कारण भारी मात्रा में कैमिकल युक्त हज़ारों लीटर पानी नालियों के रास्ते ग्राउंड वाटर में जाकर मिल जाता है जो कि ग्राउंड वाटर को भारी मात्रा में दूषित कर रहा है जिससे आसपास के लोगों को भारी मुसीबतों का सामना करने के साथ आए दिन नई-नई बीमारियों का भी सामना करना पड़ रहा है। 

 

आसपास के कुछ लोगों का कहना है की अनगिनत शिकायत करने के बावजूद विद्युत व प्रदूषण विभाग के अधिकारी इन फैक्ट्री मालिकों के खिलाफ कोई ठोस कार्यवाही नहीं करते हैं क्योंकि इसमें अति भ्रष्‍ट अवर अभियंता जिनके भ्रष्टाचारी कारनामे आए दिन हम सुनते रहते हैं आशीष रतन को उसके आका एसडीओ नरेश  

चंद्र के साथ-साथ उच्च अधिकारियों का भी संरक्षण प्राप्त है इसी कारण इन फैक्ट्री मालिकों का मनोबल दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। अगर इनकी कोई शिकायत करने के बारे में सोचें तो यह लोग उसके साथ मारपीट करने पर उतारू हो जाते हैं वैसे आपको बता दें कि अभी कुछ दिन पहले ही हमारे अखबार के माध्यम से रामा विहार कुटी/ कृष्णा विहार कुटी गली नंबर 3-4 में चल रही जिंस रंगाई व स्प्रे की फैक्ट्री की खबर प्रकाशित की थी बावजूद उसके आज तक विद्युत व प्रदूषण विभाग ने उस फैक्ट्री मालिक के खिलाफ कोई सख्त कार्यवाही नहीं की है और आज भी उन फैक्ट्रियों को धड़ल्ले से चलाया जा रहा है जिससे आसपास के लोग काफी परेशान है यदि कोई शिकायत करता है तो उस पर कुछ दबंग लोगों से दबाव बनवा मामले को रफा-दफा कर दिया जाता है 

 

उक्त मामले की शिकायत मंडल व शासन स्तर पर की जा रही है जिसमें उक्त मामले में लिप्त सभी क्षेत्रीय अधिकारियों के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही करते हुए इन सभी प्रदूषण फैलाने वाली फैक्ट्रियों के विरुद्ध सारे साक्ष्य की कैसे यह सारे संस्थान पर्यावरण को दूषित कर कम लोड पर किस प्रकार सालों से इन फैक्ट्रियों को संचालित कर रहे है जिससे शाशन को हर साल भारी राजस्व की हानि हो रही है।