ALL CRIME NEWS INTERNATIONAL NEWS CURRUPTION CORONA POSITIVE NEWS SPORTS
श्मशान घाट व कब्रिस्तान की चाहरदीवारी को लेकर सत्ताधारी दो पार्षद आपस में भिड़े
August 5, 2019 • Datla Express

डाटला एक्सप्रेस 
datlaexpress@gmail.com

साहिबाबाद। पप्पू कालोनी में लम्बे समय से सौंदर्यीकरण और चाहरदीवारी की बाट जोह रहे कब्रिस्तान व श्मशान घाट की जमीन दो वार्डों के बीच पिस रही है जिसकी वजह से टेंडर होने के बावजूद भी यहां कार्य शुरू नहीं हो पाया है। कब्रिस्तान व श्मशानघाट में चारदीवारी के लिए नगर निगम ने पहले वार्ड-10 के लिए टेंडर जारी किया था मगर विवाद के चलते दोनों जगह वार्ड-37 में आने की वजह से कार्य शुरू नहीं हो पाया। चाहरदीवारी के कार्य में लगातार हो रहे विलंब से नाराज स्थानीय लोगों ने रविवार सुबह वार्ड-37 के पार्षद के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। लोगों ने वार्ड-37 के पार्षद पर कब्रिस्तान व श्मशान घाट के कार्य में अडंगा लगाने का आरोप लगाते हुए पार्षद का पुतला फूंका और पार्षद के विरोध में जमकर नारेबाजी की। 

पप्पू कालोनी में रविवार की सुबह बड़ी संख्या में लोग एकजुट हुए और कब्रिस्तान और श्मशान घाट का कार्य जल्द शुरू न होने पर नाराजगी जाहिर की। प्रदर्शनकारियों का कहना था कि वार्ड-10 के पार्षद यशपाल पहलवान के प्रयासों से श्मशान घाट और कब्रिस्तान की चाहरदीवारी और सौंदर्यीकरण के लिए टेंडर जारी हुआ था जिसमें वार्ड-37 के पार्षद सरदार सिंह भाटी ने अडंगा लगा दिया, और कार्य शुरू नहीं हो पाया। प्रदर्शनकारियों ने पार्षद भाटी पर समाज को बांटने का आरोप भी लगाया। उन्होंने कहा कि हम सभी हिंदू- मुस्लिम एक होकर भाई-चारे की मिसाल कायम करना चाहते हैं पर कुछ लोग ऐसा नहीं चाहते। यही वजह है कि कब्रिस्तान और श्मशान घाट की बाउंड्रीवाॅल व साफ-सफाई नहीं होने दे रहे। प्रदर्शन करने वालों का कहना था कि यदि जल्द ही पप्पू कालोनी के शमशान घाट और कब्रिस्तान की बाउंड्रीवाल नहीं हुई तो कोर्ट तक भी जायेंगे। इस दौरान आक्रोशित लोगों ने वार्ड-37 के पार्षद पर नाराजगी जाहिर की। 

वहीं वार्ड-37 के पार्षद  सरदार सिंह भाटी का कहना है कि कब्रिस्तान व श्मशान घाट की जमीन वार्ड नंबर 37 के हिस्से में है, लोगों के प्रदर्शन पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए वार्ड-37 के पार्षद सरदार सिंह भाटी ने कहा कि लोगों का विरोध प्रदर्शन नाजायज है क्योंकि कब्रिस्तान व श्मशान घाट की जिस जमीन को वार्ड-10 का कहा जा रहा है, असल में परिसीमन के बाद वह जगह वार्ड-37 के अंतर्गत आती है। इस प्रदर्शन के पीछे असली मकसद पास ही नगर निगम की डिस्पेंसरी के बगल की जमीन पर अवैध कब्जा करने का है। इन लोगों ने पहले भी डिस्पेंसरी व आश्रय स्थल का निर्माण रूकवाया था। जिन लोगों ने पुतला फूंका है उनके विरूद्ध कार्रवाई कराने की बात भी पार्षद ने कही।

*मेरी निधि से हो विकास, मुझे श्रेय की जरूरत नहींः यशपाल पहलवान*

इस पूरे मामले को लेकर वार्ड-10 के पार्षद यशपाल पहलवान का कहना है कि वार्ड-10 पप्पू कालोनी में श्मशान व कब्रिस्तान की भूमि बदहाल है। चारों ओर से खुली इस जगह की चाहरदीवारी कराने के लिए मैंने दो बार टेंडर निकलवाया। नगरायुक्त व मेयर से मिलकर मैंने कहा था कि मेरी निधि से उक्त जगह पर विकास कार्य करा दिया जाए। जबकि इसी कार्य के लिए स्थानीय लोग वार्ड-37 के पार्षद से भी मिले थे। मगर दो बार जारी हुए टेंडर को श्री भाटी ने रूकवा दिया जिसकी वजह से आज तक यह कार्य अधर में है। यशपाल पहलवान ने कहा कि वे विकास कार्य को लेकर किसी तरह का सियासी लाभ नहीं चाहते, उनके लिए जनता की भावनाएं सर्वोपरि हैं बस विकास कार्य होना चाहिए। उन्होंने कहा कि मेरी निधि से उक्त कार्य होने पर भी उन्हें इसका श्रेय नहीं चाहिए। यदि वार्ड-37 के पार्षद श्रेय लेना चाहें तो उन्हें कोई एतराज नहीं बल्कि वे तो कार्य का शुभारम्भ भी सरदार सिंह भार्टी के हाथों कराने को तैयार हैं।