डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना' "रचनाकार साहित्य रत्न-2019" से नवाज़ी गईं
March 13, 2019 • Datla Express

(साप्ताहिक साहित्यिक हलचल)

डाटला एक्सप्रेस
rajeshwar.azm@gmail.com
व्हाट्सप: 9540276160

 


रचनाकार साहित्य रत्न सम्मान 2019 प्राप्त करती हुईं बनारस की कवयित्री डॉक्टर रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'

चक्रधरपुर: (टाटानगर) रविवार, दिनांक 10.3.2019 को 'रचनाकार मंच' के तत्त्वाधान में चक्रधरपुर स्थित बर्टन लेक में अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का भव्य आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि साउथ इस्टर्न रेलवे के एम.डी.आर.एम. श्री अनूप हेंब्रम थे तथा विशिष्ट अतिथि कमांडेंट 60 बटालियन श्री प्रेमचंद गुप्ता व जेएलएन कॉलेज के प्रधानाचार्य नागेश्वर प्रधान थे।

साहित्यिक-सामाजिक उत्थान के उद्देश्य से संगठित रचनाकार मंच के संस्थापक किशन लाल अग्रवाल के सान्निध्य में देशभर से आए कवि-कवयित्रियों ने अपनी-अपनी रचनाओं के माध्यम से कार्यक्रम की रौनक में चार चाँद लगा दिए। कार्यक्रम दो सत्र में चला। पहले सत्र का संचालन हैदराबाद से आईं कवयित्री सुनीता लुल्ला ने किया तथा दूसरे सत्र का संचालन दिल्ली से आए ग़ज़लकार संदीप शजर ने किया।

कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्ज्वलन से किया गया। मुंबई की प्रतिष्ठित कवयित्री मृदुल तिवारी 'महक' ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत कर माँ शारदे का आह्वान किया, तदन्तर दो मिनट का मौन धारण कर वीरगति को प्राप्त भारत के सूरमाओं व दिवंगत कवियों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

आमंत्रित सभी रचनाकारों को 'रचनाकार साहित्य रत्न सम्मान-2019' प्रदान किया गया। इसी श्रृंखला में वाराणसी की डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना ' को "रचनाकार साहित्य रत्न सम्मान- 2019" प्रदान कर गौरवान्वित किया गया। दिल्ली से आए अंतर्राष्ट्रीय हास्य कवि अनिल अग्रवंशी की अनूठी हास्य प्रस्तुति ने उपस्थित श्रोतागणों व साहित्य प्रेमियों के बीच ऐसा हास्य का मनोहारी समाँ बाँधा कि हँसते-हँसते बत्तीसी बाहर आने को तत्पर हो उठी। पहली बार किसी मंच पर देखने को मिला कि अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में उपस्थित शहर के आगन्तुकों को कविता पाठ हेतु मंच प्रदान कर कवियों ने उनकी रचनाओं पर तालियाँ बजाईं और उनका उत्साहवर्धन करते हुए साहित्यिक संवर्धन में योगदान प्रदान किया।
एक से बढ़कर एक रचनाकारों की प्रस्तुति अपने आप में हास्य, श्रृंगार, वीर, करुण आदि रसों से सराबोर थी। सभी रचनाकारों ने सराहनीय प्रस्तुति द्वारा चक्रधरपुर में तहलका मचाकर साहित्य को नई ऊँचाइयाँ प्रदान कीं। अंतर्राष्ट्रीय हास्य कवि अनिल अग्रवंशी कहने पर मज़बूर हो गए कि कवि सम्मेलन तो बहुत देखे पर साहित्य को समझने-सुनने और दाद देने वाले ऐसे श्रोतागण कभी नहीं मिले, मैं चाहूँगा कि रचनाकार मंच के आयोजक बार-बार कवि सम्मेलन का आयोजन कर हमें चक्रधरपुर बुलाते रहें, मैं आता रहूँगा और अपना सहयोग प्रदान करता रहूँगा, यहाँ उपस्थित साउथ इस्टर्न रेलवे के एम.डी.आर.एम. अनूप हेंब्रम तथा विशिष्ट अतिथि कमांडेंट 60 बटालियन प्रेमचंद गुप्ता नागेश्वर प्रसाद से भी अनुरोध करूँगा कि वे रचनाकार मंच जैसी संस्थाओं को सहयोग प्रदान करने हेतु आगे आएँ।

इस अवसर पर रचनाकार मंच की प्रथम पत्रिका 'रचनाकार स्मारिका' का विमोचन करने के साथ ही साथ रचनाकार वेबसाइट का उद्घाटन भी किया गया। 'रचनाकार साहित्य रत्न सम्मान 2019' पाने वाले रचनाकारों के नाम इस प्रकार हैं- महाराष्ट्र के अनिल त्रिपाठी, मृदुल तिवारी 'महक', सरिता संघई 'कोहिनूर', रामकृष्ण सहस्त्रबुद्धे, दिल्ली के अनिल अग्रवाल, संदीप शजर, दीप शेखर, वाराणसी की डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना', हैदराबाद की सुनीता लुल्ला, चंडीगढ़ की निर्मल जायसवाल, छत्तीसगढ़ की नीरज अग्रवाल, जबलपुर की मीना भट्ट,हजारी बाग के राजीव दास,चक्रधरपुर के किशन लाल अग्रवाल, रामवतार 'निश्छल', डॉ. राज लक्ष्मी शिवहरे, सौम्या मिश्रा अनुश्री, अनीता मंदिलवार 'सपन',बृजेश कुमार 'विफल',अरुण कुमार श्रीवास्तव, अतुल द्विवेदी 'अंजाना', राजेश कुमारी राज, शुचि संदीप,मोहिनी मोहन महतो,सुभाष तिवारी, रण विजय कुमार, पंकज कुमार वसंत, प्रवीण चंद्र आदि।