ALL CRIME NEWS INTERNATIONAL NEWS CURRUPTION CORONA POSITIVE NEWS SPORTS
डाटला एक्सप्रेस के साहित्यिक परिशिष्ट 'साहित्य सेतु' में प्रस्तुत है जौनपुर, उत्तर प्रदेश के सुनील पाण्डेय की एक मशहूर ग़ज़ल "डगर में मेरे"
January 30, 2019 • Datla Express

डगर में मेरे
--------------
दोस्त की शक्ल में, दुश्मन भी छुपे घर में मेरे ,
आदमी फिर भी कई नेकदिल , शहर में मेरे ।

रात भर पलकें किसी ख्वाब में बोझिल सी रहीं,
और कुछ दर्द भी चुभते रहे जिगर में मेरे ।

जुबां जो आपने खोली कि गिरी बिजली सी ,
इतनी तेजी तो न आई कभी नश्तर में मेरे ।

ठोकरें खा के, सुना; इंसा बदल जाते हैं,
या कि हम बदले न, या दम न था ठोकर में मेरे ।

किस तरह खुद से छुपाऊँ मैं दास्तां अपनी ?
वक्त सब चुपके से कह जाता है बिस्तर में मेरे ।

हम-नफ़स, हम-कदम, हम-राज़ बहुत हैं लेकिन –
साथ साया भी न चलता मेरा, सफ़र में मेरे ।

तुझसे कुछ आसनाई है कि मरासिम कोई !
अजनबी कौन समाया है तूं , नज़र में मेरे ?

उम्र भर की बड़ी कोशिश , न मगर भूला तुझे ,
नाम खुद सा गया तेरा, दिले-पत्थर में मेरे ।

आपकी मर्ज़ी, जिसका चाहो एहतराम करो ,
दर-ए-ख़ुदा भी, मयकदा भी है डगर में मेरे ।।
__________________________
(प्रस्तुति: डाटला एक्सप्रेस (साप्ताहिक)/गाज़ियाबाद, उ०प्र०/30 जनवरी से 05 फरवरी 2019/बुधवार/संपादक: राजेश्वर राय 'दयानिधि'/email: rajeshwar.azm@gmail.com/datlaexpress@gmail.com/दूरभाष: 8800201131/व्हाट्सप: 9540276160

सुनील पांडेय
जौनपुर/उत्तर प्रदेश