ALL CRIME NEWS INTERNATIONAL NEWS CURRUPTION CORONA POSITIVE NEWS SPORTS
जनता का मसीहा, भ्रष्टाचार का दुश्मन: विधायक नंदकिशोर गुर्जर
August 28, 2019 • Datla Express

जनपद गाज़ियाबाद के लोनी बिजली विभाग में मिल रही शिकायतों पर विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने जताई कड़ी नाराज़गी: और लिया सख्त निर्णय: जनता बाग़-बाग़

(05 घंटे बिजली दफ्तर में अघोषित सुपर भ्रष्ट अधिकारियों को साथ बैठाकर की जनसुनवाई, एक जेई का करवाया ट्रांसफर, तीन के खिलाफ भ्रष्टाचार मामलें में दर्ज करवाई स्वंय एफआईआर, जनता ने की भूरि-भूरि प्रशंसा,अनुसूचित जाति/यूनियन और सरकारी काम में बाधा का विधवा/वेश्या विलाप करने वालों का सहारा लेकर प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) दर्ज करवाने वालों के नेक्सस को तोड़ने की की प्रतिज्ञा)

डाटला एक्सप्रेस
व्हाट्सप: 9540276160
datlaexpress@gmail.com

गाजियाबाद: जनता के लोकप्रिय लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर जी लगातार क्षेत्र के सभी विभागों में कभी औचक निरीक्षण तो कभी स्वंय अधिकारी के दफ्तर में जनसुनवाई कर रहे हैं, जिससे अधिकारी सकते में हैं। मंगलवार 27/08/2019 को विधायक नंदकिशोर गुर्जर बिजली विभाग की मिल रही लगातार भ्रष्टाचार व कार्य में लापरवाही बरतने की शिकायत का संज्ञान लेते हुए रूप नगर स्थित विद्युत विभाग के कार्यालय पहुंचे। बिजली विभाग की कार्यप्रणाली और भ्रष्टाचार से नाराज़ मौजूद जनता ने अधिशासी अभियंताओं व अन्य अधिकारियों को बंधक बना लिया और विधायक की मौजूदगी में बिजली विभाग का कच्चा चिट्ठा खोल कर रख दिया जिससे विधायक ने दो डिवीजन के अधिशासी अभियंताओं के सामने नाराजगी व्यक्त करते हुए व्यवस्था में जल्द सुधार लाने के आदेश दिए। गौरतलब है कि एक व्यक्ति को कनेक्शन देने के लिए विधायक नंदकिशोर गुर्जर द्वारा तीन बार फोन किया गया, उसके बावजूद उसे कनेक्शन न देकर पहले 06(छ:) हजार रूपये ले लिए गए, उसके बाद फिर इन  भ्रष्‍ट अधिकारियों द्वारा पैसों की मांग की गई। 

किसी पर तीन एफआईआर तो कहीं लाईट-पंखे पर लाखों का बिल, विधायक ने जताई नाराजगी, गिराई कर्मचारियों पर गा-

------------------------------------------------------------------

विधायक की मौजूदगी में लोगों ने बिजली विभाग पर पहले लाखों के बिल बनाना, फिर उसे कम करने के नाम पर पैसा मांगने सहित कनेक्शन देने के नाम पर सरकार द्वारा तय धनराशि से अधिक पैसा मांगने की शिकायत की, जिसके साक्ष्य देने पर अधिशासी अभियंताओं और विभाग को विधायक को जवाब देते नहीं बना। विधायक ने तुरंत कार्रवाई करते हुए पहले भ्रष्ट जेई प्रशांत का ट्रांसफर करवाया और भ्रष्टाचार की शिकायत पर विभागीय जांचकर रिपोर्ट देने को कहा। साथ ही तीन अन्य संविदा बिजली कर्मियों के खिलाफ विधायक ने स्वंय एफआईआर दर्ज करवाई।  

विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने कहा कि आज लोगों की जनसुनवाई के दौरान यह ज्ञात हुआ कि बिजली उपभोक्ताओं का किस हद तक शोषण किया जा रहा है, जो बिजली का कनेक्शन सौभाग्य योजना के तहत मुफ्त में दिया जा रहा है और 2105/(दो हजार एक सौ पाँच) रूपये में सामान्य लोगों को मिलता है। उसके लिए 10, 000/= हजार रूपये तक की मांग की जा रही है।  हमारे कई बार कहने के बावजूद कनेक्शन नहीं दिया गया, 2105 रूपये की जगह 06 हजार रूपये की मांग की गई और उसके बाद फिर 10 हजार की मांग की गई।

श्री गुर्जर ने कहा "आज लोगों का गुस्सा उबाल पर था, जिसे वार्ता कर शांत करवाया गया। जिनके घर में 01 पंखा और लाईट है उनको लाख-लाख रूपये के बिल भेजे जा रहे हैं। ये बसपा-सपा मानसिकता के लोगों की पुरानी परंपरा है, जिसके तहत बिल सेटिंग के नाम पर आम जनता से लाखों रूपये वसूले जाते हैं। इस संदंर्भ में 03 गुंडे टाइप संविदा बिजली कर्मियों के खिलाफ मैंने स्वंय संस्तुति करते हुए एफआईआर दर्ज करवाई है। जिन्होंने बिजली बिल जमा करने के नाम पर 70 हजार रूपये ले लिए जो लौटाए नहीं। जल्द यह तीनों पुलिस की हिरासत में होंगे। एक जेई का ट्रांसफर किया गया है, जिसे जल्द निलंबित भी किया जाएगा। भ्रष्टाचार का आलम यह है कि बिजली उपभोक्ताओं को डराकर वसूली करने के लिए बिजली बिल जमा करने के बावजूद एक ही व्यक्ति पर तीन-तीन एफआईआर दर्ज करवा दी गई यह अपने आप में हास्यास्पद है। इससे पूर्व भी बिजली कर्मियों द्वारा बिजली कनेक्शन के दौरान महिलाओं और आम जनता से दुर्व्यवहार करने की शिकायत निरंतर प्राप्त होती रही है। जनता में असंतोष फैलाकर सपा-बसपा की विचारधारा वाले अधिकारी प्रदेश की लोकप्रिय सरकार को बदनाम करने का षड्यंत्र कर रहे हैं जो बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। बिजली के क्षेत्र में प्रदेश सरकार ने उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा जी के नेतृत्व और यशस्वी मुख्यमंत्री जी के मार्गदर्शन में एतिहासिक कार्य किया है, लेकिन जो अधिकारी साफ नियत से कार्य नहीं करना चाहते हैं उनकी बर्खास्तगी की सिफारिश मंत्री जी व माननीय मुख्यमंत्री जी से की जाएगी। लोनी में किसी भी स्तर पर भ्रष्टाचार करने वाले और जनता जर्नादन से दुर्व्यवहार करने वाले अधिकारी बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे चाहे फिर वो कितना भी बड़ा अधिकारी क्यों न हो।"