ALL CRIME NEWS INTERNATIONAL NEWS CURRUPTION CORONA POSITIVE NEWS SPORTS
गाजियाबाद में पुलिस ने एक ऐसे गिरोह को पकड़ा है जो महंगे शोरूम में चोरी करता था:
February 11, 2019 • Datla Express

 

(इनके पास से करीब 50 लाख का माल भी बरामद हुआ है)

डाटला एक्सप्रेस
पंकज तोमर

गाजियाबाद: थाना इंदिरापुरम पुलिस ने एक महिला समेत दो साथियों को गिरफ्तार कर उनके पास से 15 लाख रु. नगद बरामद किए हैं। साथ ही लग्जरी गाड़ियां व विदेशी मोटरसाइकिल और स्कूटी सहित शोरूम से चोरी किए लाखों रुपये के लैपटॉप व कपड़े भी, जिनकी कीमत करीब 15 लाख रु. आँकी जा रही है। गिरफ्तार अभियुक्त अंतर्राज्यीय गिरोह के शातिर अपराधी हैं जिनका मुखिया फरमान वर्तमान समय में दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद है। फरमान के जेल जाने के बाद उक्त गैंग को राजू सञ्चालित कर रहा था। उक्त गैंग केवल बड़े शोरूम को ही अपना निशाना बनाता है। गैंग में से एक साथी ऑनलाइन शोरूमों को चिन्हित कर उनकी सूचना अपने गैंग के सदस्यों को देता था और उसके बाद चिन्हित किए गए शोरूम की दिन में लग्जरी वाहनों से रेकी की जाती थी और रात्रि में मौका देखकर शोरूम के सामने अपनी गाड़ी लगाकर सटर तोड़ने के उपकरणों का प्रयोग कर आसानी से शोरूम में घुस जाया जाता था। फिर ये सारा सामान अपनी गाड़ियों में भर लेते और शोरूम में लगे सीसीटीवी डीवीआर भी अपने साथ ले आते थे, जिस कारण उनको पहचानने और पकड़ने में काफी परेशानी होती है।

अभियुक्त गण चोरी किए गए सामान को अन्य राज्यों में महिला को साथ लेकर ऑनलाइन तथा साप्ताहिक बाजार में बेच देते थे, जिससे लोगों को इन व्यक्तियों पर शक भी नहीं हो पाता था। गिरफ्तार व्यक्तियों से बरामद सामान की बात करें तो लगभग 50 लाख रुपए कीमत का सामान बरामद हुआ है, जिसमें से 15 लाख रुपए कैश बरामद हुए हैं। चार लग्जरी कार मिली हैं जो कि घटना में प्रयुक्त की जाती हैं, साथ ही एक विदेशी मोटरसाइकिल भी जिसकी कीमत करीब 3 लाख रु. है। दो स्कूटी भी मिली है जिनसे ये रेकी करते थे। महंगे कपड़ों के बंडल मिले हैं जिसमें जींस, लहंगा, सूट आदि हैं जिनकी कीमत भी करीब 15 लाख रु. आंकी जा रही है। साथ ही लग्जरी साड़ियों से भरा हुआ बैग मिला है और बिभिन्न कंपनियों के 29 लैपटॉप व एलईडी लाइट्स डेस्कटॉप मॉनिटर और शटर काटने के उपकरण भी बरामद हुए हैं। इस टीम में उक्त भूमिका निभाने वाले एसआई अंजनी सिंह जो काफी चर्चित और एनकाउंटर स्पेशलिस्ट भी हैं, उन्हीं की मेहनत के कारण आज इस गिरोह का पर्दाफाश हो पाया है।